Toothpaste

Toothpaste | टूथपेस्ट | Best toothpaste

टूथपेस्ट के फायदे और नुकसान

टूथपेस्ट ( Toothpaste) हमारे जीवन के कार्यशैली का एक अभिन्न हिस्सा है। क्या आपने कभी सोचा है कि टूथपेस्ट कैसे बनता है। इसको बनाने में क्या-क्या चीज इस्तेमाल की जाती है।

इसके क्या क्या लाभ है और इसकी क्या क्या हानियां तो चलिए मैं आपको बताता हूं किस तरह से टूथपेस्ट हमारे लिए लाभदायक है और नुकसानदायक भी है इन दोनों पहलुओं को ध्यान में रखते हुए हम इस विषय पर चर्चा करेंगे।

टूथपेस्ट एक कृत्रिम प्रोडक्ट है। कृत्रिम प्रोडक्ट उसे कहते हैं जो कि मानव निर्मित हो। टूथपेस्ट की जगह पर पहले दातुन का इस्तेमाल किया जाता था।

 यदि दातुन उपलब्ध ना हो तो लोग टूथपेस्ट की जगह पर नमक और सरसों के तेल का पेस्ट बनाकर प्रयोग करते थे या फिर कुछ खास वृक्षों के कोयले का पेस्ट बनाकर प्रयोग किया जाता था और भी ऐसे बहुत से प्राकृतिक टूथपेस्ट ( Toothpest) हमारे आसपास मौजूद है परंतु उसका उपयोग करना नहीं चाहते।

तो आइए समझते हैं टूथपेस्ट के फायदे और नुकसान के बारे में

टूथपेस्ट के फायदे

1 अगर त्वचा को कोई भाग जल गया है, और उसकी जलन कम नहीं हो रही हो, तो टूथपेस्ट बहुत अच्छा विकल्प है। इसे जले हुए स्थान पर लगाने से जलन भी कम होगी और फफोले भी नहीं पड़ेंगे।

2  अगर चेहरे पर मुंहासे हो रहे हों, तो toothpaste आपको इनसे निजात दिला सकता है। बस रात को मुहांसों पर टूथपेस्ट लगा कर छोड़ दें और सुबह उठकर धो लें। यह त्वचा के अतिरिक्त तेल को सोख लेगा और मुंहासे सूख जाएंगे। 

3  कपड़े पर लिपस्टिक या स्याही के दाग लग जाने पर परेशान होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है। बस दाग लगने वाली जगह पर थोड़ा-सा टूथपेस्ट लगाकर रखें और धो लें। इससे दाग पूरी तरह से चला जाएगा।

4  अगर कांच की टेबल पर चाय के कप रखने से निशान बन गए हों, तो उन्हें हटाने के लिए टूथपेस्ट का प्रयोग करें। निशान तुरंत साफ हो जाएंगे। 

5  टूथपेस्ट toothpaste आपकी सुंदरता को बढ़ाने में भी सहायता करता है। इसे नींबू के साथ मिलाकर फेस पैक की तरह लगाने पर त्वचा गोरी होती है। इसके अलावा, झुलसी हुई त्वचा, झुर्रियां और डार्क सर्कल्स को मिटाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जा सकता है।

6  अगर आपके गहने काले पड़ गए हैं, और आप उन्हें चमकाना चाहते हैं, तो टूथपेस्ट का प्रयोग करें। यह आपके गहनों को साफ कर एकदम चमका देगा। हीरे के गहनों की चमक में भी यह इजाफा करेगा।

7  घर में अगर दूध के बर्तनों में से महक हटाना हो, या बच्चों की दूध की बोतल को साफ करना हो, तो आप उस बर्तन में थोड़ा-सा टूथपेस्ट घुला हुआ पानी डालकर खंगाल लें। इससे बर्तन में से दूध की महक चली जाएगी। 

8  घर में अगर बच्चों ने दीवारों पर कलाकारी कर दी है, तब भी toothpaste लगाकर आप उन धब्बों को साफ कर सकते हैं। इससे दीवार का रंग भी हल्का नहीं पड़ेगा। 

9 अगर आप मैनीक्योर या पेडीक्योर के लिए पार्लर नहीं जाना चाहते, तो घर पर ही टूथपेस्ट का उपयोग कर मैनीक्योर व पेडीक्योर कर सकते हैं। इसके लिए पानी में टूथपेस्ट को घोलकर प्रयोग किया जा सकता है।

10 अगर आपके नाखूनों की चमक फीकी पड़ गई हो, तो नेल पॉलिश रिमूव करके, कुछ देर तक टूथपेस्ट की मालिश करें। इससे नाखूनों की चमक बढ़ जाएगी। 

11  अगर घर का आईना बहुत गंदा या धुंधला हो गया है, तो बेफिक्र होकर उसे टूथपेस्ट से साफ करें। आईना बिल्कुल साफ हो जाएगा, और धुंधलापन भी गायब हो जाएगा। 

टूथपेस्ट के नुकसान

1. फ्लूराइड  

यह एक ऐसी चीज़ है जिसके कारण टूथपेस्ट (toothpaste) को थोड़ा दवाई और थोड़ा कॉस्मेटिक माना जाता है। लंबे समय तक इसके इस्तेमाल से दांतों में मज़बूती आ सकती है लेकिन जहां तक सफाई का सवाल है यह इसमें सक्षम नहीं। एक्सपर्ट का मानना है कि फ्लूराइड ज़हरीला है। ऐसे में टूथपेस्ट को पूरा उगल देने की सलाह दी जाती है। बच्चों द्वारा टूथपेस्ट के उपयोग में विशेष सावधानी की ज़रूरत है कि वे इसे निगल न लें। लंबे समय तक इसके इस्तेमाल से दिमाग, पाचन तंत्र, दिल, हड्डियों और यहां तक कि दांतों पर होने वाली प्राकृतिक परत, जिसे इनेमल कहते हैं, को नुकसान पहुंचता है। 

2. फोम या झाग 

क्या आपने कभी सोचा कि झाग तो साबुन, शैम्पू और हैंडवॉश में बनता है। ये सभी चीज़ें तो सफाई के लिए है और इनमें से एक भी आप मुंह में लेने का नहीं सोच सकते। जब toothpaste में झाग बनता है तो आपने कभी सोचा क्यों नहीं? आपको इस झाग से सफाई की फीलिंग आती है। सोडियम लॉरेल सल्फेट इस झाग की वजह है। आपको इसी के कारण मुंह में सफाई जैसा लगता है। झाग में बने बुलबुले आपके दातों को स्क्रब करते हैं लेकिन इनका नुकसान तब होता है जब ये आपको नाज़ुक मसूड़ों से भी टकराते हैं। 

3. पॉलिशिंग एजेंट 

अधिकतर टूथपेस्ट में हायड्रेटेट सिलिका का इस्तेमाल होता है। यह आपके दांतों की पॉलिश करता है। सिलिका पॉलिश करने और सफेदी लाने का काम करती है। आपके दांत इसके इस्तेमाल से उतने ही सफेद होते हैं जितना कोई डॉक्टर व्हाइटनिंग ट्रीटमेंट कर रिज़ल्ट दे सकता है। इससे सिर्फ ऊपरी परत साफ होती है। 

4. डिसेंसिटाइज़र्स 

दांत गर्म, ठंडे और मीठे के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं। आप कुछ खाते हैं और आपको दांतों में झनझनाहट का एहसास होता है। इस समस्या से बचने के लिए टूथपेस्ट में पोटेशियम नाइट्रेट या स्टेनोस फ्लूराइड मिलाए जाते हैं। इनसे आपकी सेंसिटिविटी महसूस होना बंद हो जाती है। अगर समस्या कैविटी की है (दांतों के बीच जगह हो जाना) तो यह सिर्फ समस्या को दबाना है, उसका सही इलाज नहीं। 

5. टारटार कंट्रोल 

ये जलता है। अगर आपके टूथपेस्ट (toothpaste) में जलन का अनुभव हो या तीखा लगे तो मान लीजिए कि उसमें टेट्रासोडियम पायरोफॉस्फेट मिला है। यह आपके सामने के नीचे के दांतों को अंदर की तरफ से सुरक्षा करता है। इसकी थोड़ी मात्रा दांतों के लिए अच्छी है लेकिन अधिक मात्रा में इस्तेमाल से यह जमने लगता है।  

6. ट्राइक्लोसन 

इसका काम दांतों और मसूड़ों के बीच इंफेक्शन रोकना है। अगर आपके दांतों की पहले से ही सफाई हो रही है तो यह एक एडीशनल और बेकार की चीज़ है। इसके नुकसान अभी शोध के विषय हैं किंतु इतना आसानी से कहा जा सकता है कि अत्यधिक मात्रा में इस्तेमाल से नुकसान ज़रूर होता है।

बेस्ट टूथपेस्ट (Best toothpaste) का चुनाव कैसे करें

भारत देश में एक बेस्ट टूथपेस्ट का चुनाव करना बहुत ही मुश्किल काम है क्योंकि यहां पर आपको बहुत से ऐसे ब्रांड मिल जाएंगे जो कि अपने टूथपेस्ट को औरों के मुकाबले सबसे बेस्ट बताते हैं।

परंतु ऐसा होता नहीं कंपनी अपने प्रोडक्ट की पूरी जानकारी कस्टमर को नहीं देती और अपने प्रोडक्ट पर कुछ कोड लगा देती हैं जिसे सिर्फ कंपनियां ही समझ सकती है ऐसा ही कुछ टूथपेस्ट में भी होता है।

आप हमेशा देखेंगे जब भी आप कोई टूथपेस्ट (toothpaste) खरीदते हैं तब उनके नीचे एक रंग की पट्टी बनी होती है यह रंग काला, लाल ,नीला और हरे रंग का होता है।

कलर कोड के अनुसार आप अपने टूथपेस्ट का चुनाव आसानी से कर सकते हैं चलिए आपको बताते हैं की इन कलर कोड का मतलब क्या होता है।

कलर कोड को आप इमेज में देख सकते हैं की toothpaste के सबसे नीचे अलग-अलग रंग की पट्टी है।

Thoothpest
Toothpaste me lage colour code

काला रंग की पट्टी 

काले रंग की पट्टी यह दर्शाती है कि इस टूथपेस्ट (toothpaste) के अंदर अत्याधिक केमिकल का इस्तेमाल किया गया है इसलिए ऐसे टूथपेस्ट का इस्तेमाल करने से जितना हो सके बचे।

लाल रंग की पट्टी

लाल रंग की पट्टी वाले टूथपेस्ट मैं भी केमिकल की मात्रा होती है और कुछ प्राकृतिक तत्व भी होते हैं परंतु यह काले रंग वाले पट्टी वाले टूथपेस्ट (toothpaste) की अपेक्षा कम होता है अतः जिस टूथपेस्ट पर लाल रंग की पट्टी हो उसका भी इस्तेमाल हमें बहुत ही कम करना चाहिए।

नीला रंग की पट्टी

नीले रंग की पट्टी वाले टूथपेस्ट यह दर्शाते हैं कि इस टूथपेस्ट के अंदर कुछ तत्व प्राकृतिक हैं और कुछ मेडिसिन होती है यह पूर्णता हर्बल नहीं होते हैं।

परंतु यह काले और लाल रंग वाली पट्टी के टूथपेस्ट (toothpaste) की अपेक्षा अधिक फायदेमंद होते हैं।

हरे रंग की पट्टी

हरे रंग की पट्टी के टूथपेस्ट पूर्णता प्राकृतिक तरीके से बने होते हैं और इनका हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता है अतः बेहतर होगा कि हमें हरे रंग की पट्टी वाले टूथपेस्ट (toothpaste) को ही इस्तेमाल करना चाहिए जो कि केमिकल मुक्त होते हैं।

यदि आपको दांतो की और मुंह की कोई बीमारी नहीं है और आप पूर्णता स्वस्थ हैं तो मैं आपको यही सलाह दूंगा कि आप हरी पट्टी वाला टूथपेस्ट ही यूज़ करें।

परंतु यदि आपको दातों की या मुंह की कोई समस्या है तो बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें और उसके बताए हुए टूथपेस्ट को ही इस्तेमाल करें जो कि आपके लिए काफी बेहतर है।

मैंने इस्तेमाल किया और पाया कि कुछ टूथपेस्ट जो कि अन्य सामान्य टूथपेस्ट के मुकाबले ज्यादा अच्छे best toothpaste हैं

मेरा सबसे पसंदीदा टूथपेस्ट

Best toothpaste list for adalat & kids

इसे भी पढ़ें : एफिलिएट मार्केटिंग

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *