विश्वकर्मा पूजा

विश्वकर्मा पूजा 2023 | पूजा विधि मंत्र सहित PDF | Vishwakarma Puja

विश्वकर्मा पूजा क्यों मनाते हैं

भारतीय संस्कृति में विश्वकर्मा पूजा एक महत्वपूर्ण पर्व है जो हर साल 17 सितंबर माह को मनाया जाता है। इस पर्व को विश्वकर्मा जयंती भी कहा जाता है और यह मुख्य रूप से औद्योगिक कार्यक्षेत्रों में काम करने वाले लोगों के बीच प्रसिद्ध है। विश्वकर्मा पूजा का महत्व इसलिए है क्योंकि यह इस सृष्टि में औद्योगिक क्षेत्र के देवता भगवान विश्वकर्मा हैं ऐसा माना जाता हैं कि इनके द्वारा ही बहुत से श्रेष्ठ और उत्कृष्ट कार्य किए गए हैं जैसे कि श्री कृष्ण की नगरी द्वारिका, सोने की लंका,और इंद्रप्रस्थ जैसे मायावी भवनों का निर्माण विश्वकर्मा जी के द्वारा किया गया है इतना ही नहीं इन्होंने बहुत से अस्त्र-शस्त्र का निर्माण भी किया है 

भगवान विश्वकर्मा को देवताओं का शिल्पकार कहा जाता है। इन्होंने स्वर्ग से लेकर पृथ्वी लोक तक बहुत सी चीजों का निर्माण किया है इसलिए इन्हें देव शिल्पी भी कहा जाता है विश्वकर्मा जी ब्रह्मदेव के सातवे में पुत्र हैं शास्त्रों के अनुसार भगवान विश्वकर्मा का जन्‍म भादो महीने में हुआ था। इसलिए हर साल 17 सितंबर को उनके जन्मोत्सव को विश्वकर्मा जयंती के रूप में मनाया जाता है।

आज के इस आर्टिकल में, हम विश्वकर्मा पूजा 2023 के महत्व, विधि, मंत्र, और पूजा सामग्री के बारे में विस्तार से जानेंगे। इसके साथ ही, हम आपको विश्वकर्मा पूजा की तारीख और अन्य सवालों के उत्तर भी प्रदान करेंगे। तो चलिए, जानते हैं कि विश्वकर्मा पूजा का महत्व क्या है और कैसे इसे मनाया जाता है।

विश्वकर्मा पूजा विधि

हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार विश्वकर्मा जयंती के दिन कोई भी मशीनरी या औजार का उपयोग नहीं किया जाता हैं इस दिन सभी मशीनो औजारों और अस्त्र-शास्त्र की पूजा की जाती है पूजा करने से सर्वप्रथम सभी मशीनों और औजारों को साफ किया जाता है। तत्पश्चात विश्वकर्मा भगवान की पूजा करने के बाद सभी मशीनों औजारों आदि की पूजा की जाती है इस दिन लगभग यदि संभव हो तो किसी भी मशीन को चालू नहीं किया जाता हैं।

स्वयं स्नान आदि करने के पश्चात अपने कार्यस्थल या मंदिर में भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा को स्थापित करें धूप दीप सुगंधित पुष्प आदि से पूजा स्थल को सजाएं उसके बाद श्री गणेश जी के मंत्र के साथ भगवान विश्वकर्मा जी के मंत्र का उच्चारण करते हुए पूजा को प्रारंभ करें फल और मिठाई आदि का भोग लगाएं।

विश्वकर्मा भगवान की पूजा करने के बाद अपने सभी यंत्रों की की पूजा अवश्य करें सभी यंत्रों पर सभी मशीनों पर गंगाजल का छिड़काव करें चंदन के साथ अभिषेक करें और फूल माला चढ़ाएं ऐसा माना जाता है कि इस दिन पूजा करने से व्यापार में वृद्धि होती है और संकटों का सामना नहीं करना पड़ता।

विश्वकर्मा पूजा मंत्र

ॐ आधार शक्तपे नम:, ओम कूमयि नम:, ओम अनन्तम नम:, पृथिव्यै नम:।

विश्वकर्मा पूजा शुभ मुहूर्त और समय

हिंदू धर्म के पंचांग के अनुसार विश्वकर्मा जयंती 17 सितंबर 2023 को मनाई जाएगी। वैसे तो देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा की पूजा पूरे दिन की जाएगी, लेकिन पूजा के लिए शुभ मुहूर्त 17 सितंबर को सुबह 10:15 मिनट से लेकर दोपहर 12:26 मिनट होगा। इस मुहूर्त में पूजा करने से व्यापार में शुभ फल की प्राप्ति होगी। अमर उजाला समाचार पत्र के अनुसार

विश्वकर्मा पूजा विधि मंत्र सहित PDF

पूजा मंत्र आरती और पुजन सामग्री का PDF download करें

विश्वकर्मा जयंती कब हैं 2023

इस वर्ष विश्वकर्मा जयंती 17 सितंबर 2023 को हैं।

विश्वकर्मा पूजा विधि मंत्र सहित PDF कैसे डाउनलोड करें

इस पोस्ट में दिए गए पीडीएफ डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आप पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

विश्वकर्मा पूजा का शुभ मुहूर्त कितने बजे से कितने बजे तक है

पूजा का शुभ मुहूर्त 10:15 से लेकर 12:26 मिनट तक है

विश्वकर्मा पूजा विधि

इस पोस्ट में विश्वकर्मा पूजा विधि के बारे में विस्तार से बताया गया है।

विश्वकर्मा पूजा आरती Pdf डाउनलोड

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
सनातन धर्म की लहर नहीं सुनामी है ये खिलाफ गए तो मिट जाओगे : संत पाकिस्‍तान से आ रही ये खास चीज जो राम मंदिर पूजा में होगी इस्‍तेमाल प्रभु श्री राम का ये गुप्त नाम मां सीता के अलावा कोई नहीं जानता था  hot water सर्दियों में नहाते हैं गर्म पानी से तो हो जाए सावधान Bath सर्दियों में सनबाथ से ये बीमारियां हो जाती छू मंतर  hot water सर्दियों में नहाने का गरम पानी पाए झटपट जानें स्मार्ट तरीके  राम मंदिर: प्राण प्रतिष्ठा में कहां से क्या-क्या आएगा प्रधानमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना अब सबके लिए जानें कैसे सर्दियों में फटी एड़ियों को बोलो बाय-बाय  सर्दियों में फटे होठों को बोलो नो प्रॉब्लम देखें राम लला चरण पादुका की अद्भुत तस्वीरें व बातें राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी के आने पर रोक आटे का पिज़्ज़ा कैसे बनाते हैं शुद्ध शाकाहारी पिज़्ज़ा बच्चोका फैब्रिट क्या आप जानते है अपने सेविंग अकाउंट के नुकसान कर रहे गलत वैक्यूम इस्तेमाल जानें वैक्यूम क्लीनर के प्रकार सही use प्रभु श्री राम के 7 मंत्र करते हैं सफलता व धन को आकर्षित pf के फायदे benefits of provident fund PF full form क्या है | epf full form नमक के पानी से नहाने के फायदे जान चौंक जाएंगे छठ पूजा 2023
सनातन धर्म की लहर नहीं सुनामी है ये खिलाफ गए तो मिट जाओगे : संत पाकिस्‍तान से आ रही ये खास चीज जो राम मंदिर पूजा में होगी इस्‍तेमाल प्रभु श्री राम का ये गुप्त नाम मां सीता के अलावा कोई नहीं जानता था  hot water सर्दियों में नहाते हैं गर्म पानी से तो हो जाए सावधान Bath सर्दियों में सनबाथ से ये बीमारियां हो जाती छू मंतर  hot water सर्दियों में नहाने का गरम पानी पाए झटपट जानें स्मार्ट तरीके  राम मंदिर: प्राण प्रतिष्ठा में कहां से क्या-क्या आएगा प्रधानमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना अब सबके लिए जानें कैसे सर्दियों में फटी एड़ियों को बोलो बाय-बाय  सर्दियों में फटे होठों को बोलो नो प्रॉब्लम देखें राम लला चरण पादुका की अद्भुत तस्वीरें व बातें राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी के आने पर रोक आटे का पिज़्ज़ा कैसे बनाते हैं शुद्ध शाकाहारी पिज़्ज़ा बच्चोका फैब्रिट क्या आप जानते है अपने सेविंग अकाउंट के नुकसान कर रहे गलत वैक्यूम इस्तेमाल जानें वैक्यूम क्लीनर के प्रकार सही use प्रभु श्री राम के 7 मंत्र करते हैं सफलता व धन को आकर्षित pf के फायदे benefits of provident fund PF full form क्या है | epf full form नमक के पानी से नहाने के फायदे जान चौंक जाएंगे छठ पूजा 2023